चक्कर आना वर्तमान समय की एक बड़ी समस्या बनकर सामने आ रही है. Home Remedies for Dizziness in Hindi में आज हम chakkar aana रोकने के लिए कुछ घरेलू इलाज लेकर आए है. इसमें होता क्या है कि कई बार हमारे आँखों के आगे अँधेरा छा जाता है तथा शरीर का संतुलन गड़बड़ा जाता है और कभी-कभी तो हम गिर पड़ते है.

चक्कर आने को हम सर घुमना या सिर चकराना भी कहते है. Dizziness से शरीर स्थिर नहीं रह पाता है उस वक़्त हमें बैठना पड़ता है. आज हम Dizziness meaning और इसके उपाय जानते है.

Dizziness Meaning in Hindi | चक्कर आना |डिज़्ज़िनेस का अर्थ | vertigo meaning

Dizziness meaning in hindi (डिज़्ज़िनेस, डिज़्ज़ीनेस)  का मतलब चक्कर, सर चकराना, घुमनी, चक्कर आना, शिरोभ्रमण, घूर्णी. चक्कर आने का मतलब शरीर स्थिर ना रहना, चारों और से जमीन घुमती नजर आना, ऐसा लगता है कि सर घूम रहा है, पैर डगमगाना, आसपास का सब कुछ घूमता नजर आना आदि.

Vertigo Meaning | Dizziness Meaning in Hindi | चक्कर आना

vertigo ka matlab है सिर का चक्कर, चक्कर, भ्रमि, घुमटा आदि. इसमें आस पास का सब कुछ घुमता नजर आता है. इसके ज्यादा देर रहने से जी मिचलाने लगता है जिसकी वजह से उल्टी होने की संभावना बढ़ जाती है. Dizzineess के समय 30 प्रतिशत लोगों में ये समस्या हो जाती है.

चक्कर आने के कारण | Reasons of Dizziness in Hindi | chakkar aane ke karan

चक्कर आने का क्या कारण है?( What causes dizziness?) ये सवाल सभी के मन में आटा है. आइये आज जान लेते है इसका जवाब. शरीर की समस्याओं के चलते हमें चक्कर आते है. Dizziness के कई कारण होते है जैसे :- कम रक्तचाप, प्रेसिकोप, माईग्रेन, एनीमिया, चिंता करना, ब्लड शुगर, सर में चोट, आँखों से जुडी समस्या आदि. कई बार किसी दवाई के साइडइफ़ेक्ट से भी ऐसा हो जाता है. इसकी वजह से आँखों के  आगे अंधेरा, कानों से सुनाई ना देना और कभी-कभी बेहोश भी हो जाना.

डी-हाईड्रेशन चक्कर आने का आम कारण है. अधिकतर इसकी वजह से ही Dizziness होती है.

प्रेगनेंसी में चक्कर क्यों आती है?( Why is pregnancy dizzy?) ये सवाल भी बहुत सी महिलाओं के दिमाग में रहता है. प्रेगनेंसी में बार बार हार्मोन्स में बदलाव होता रहता है, रक्तचाप भी स्थिर नहीं रहता है, इसीवजह से चक्कर आते है. अगर आपको प्रेगनेंसी के पांचवे-छठे महीने के बाद भी चक्कर आते है तो आपको चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए. इस समय आपके ये हाइपरटेंशन की वजह से हो सकते है.

चक्कर आने के पीछे कई बार बड़ी समस्याएं भी होती है, जैसे:- बे्रन स्ट्रोक, हार्ट में ब्लॉकेज, ब्लड में शुगर का घटना,  तनाव-चिंता, उच्च रक्तचाप, शरीर में रक्त की कमी, ऑक्सीजन की न्यूनता, बे्रन ट्यूमर, हार्ट अटैक, बे्रन हेमरेज आदि इसके बड़े कारण भी हो सकते है.

चिकित्सक की सलाह कब लें | Dizziness Meaning in Hindi

जब कभी भी हमें चक्कर आए और जिसका कारण सर की चोट हो तो तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए. छाती में दर्द, बार बार उल्टी, बहरापन, आँखों में अँधेरा, आवाज में बदलाव, बेहोश होना, बुखार आना आदि अगर चक्कर आने पर हो तो हमें अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए.

चक्कर आने पर कौन सी दवा लेनी चाहिए?( Which medicine should be taken in case of dizziness?) ये प्रश्न भी हम सोचते है लेकिन इस विषय में मेरी राय है कि डॉक्टर की सलाह के बिना हमें कोई दवाई नहीं लेनी चाहिए.

हमें कभी-कभार ही चक्कर आते है तो हम निचे बताये गए घरेलू उपचार अपना सकते है. अगर आपको बहुत ज्यादा चक्कर आते है तो शीघ्र चिकित्सक को दिखाना चाहिए. सामान्य चक्कर आने में हम निम्न घरेलू इलाज कर सकते है.

चक्कर आने पर घरेलू उपचार | Home remedies on dizziness | Dizziness in Hindi

सिर में चक्कर आए तो क्या करें?( What to do if you get dizzy head?) चक्कर आना बंद कैसे करें?( How to stop dizziness?) ये सब बातें हमें पता होनी चाहिए. चक्कर आना बहुत ज्यादा बढ़ गया है. इसमें हम क्या करे, ये सब आज आपको जानने को मिलेगा.

चक्कर आने के समय हमें सामान्य बातों का ध्यान रखना चाहिए.

  • आपको जब भी लगे की चक्कर आने वाला है तुंरत आराम से वहीं बैठ जाओ.
  • जिसे Dizziness in Hindi की समस्या है उसे व्यायाम करने चाहिए.
  • चक्कर आना ज्यादा गंभीर बहुत कम मामलों में होता है इसलिए आप डरे नहीं.
  • ज्यादा चक्कर आना बड़ा कारण हो सकता है इसलिए डॉक्टर से मिले.
  • नशीले पदार्थो के सेवन से बचना चाहिए.

गहरी साँस लेना | Dizziness in Hindi

जल्दी-जल्दी गहरी साँस लेना चक्कर आने पर सबसे बेहतर उपाय है. इससे ज्यादा ऑक्सीजन की मात्रा मस्तिष्क को मिलती है. शरीर में भी ऑक्सीजन की कमी दूर होती है. इससे हमारा तंत्रिका-तन्त्र सुचारू रूप से कार्य करने लग जाता है.

  • गहरी साँस लेने के लिए आराम से बैठ जाइये.
  • एक हाथ पेट कमर पर रखें. दुसरे हाथ के अंगूठे से एक साइड का नाक बंद करें और मुंह भी बंद रखें.
  • अब पूरी तरह जितना हो सके उतना साँस लें, साँस को रोक सको उतनी देर रोको.
  • अब साँस छोड़े और पेट से पूरी साँस बाहर निकालें.
  • इसतरह आप 8 से 10 बार करें.

अधिक पानी पीये | Dizziness in Hindi

डी-हाईड्रेशन की वजह से ज्यादातर चक्कर आना होता है. हमारे द्वारा बहुत कम पानी पीने के कारण डी-हाईड्रेशन होता है. शरीर में पानी की कमी के चलते हमें चक्कर आने लगते है. व्यायाम के दौरान भी हम पानी नहीं पीते है जो कि गलत है. डी-हाईड्रेशन के कारण उल्टी और डायरिया हो सकता है.

जब भी आपको चक्कर आने लगे तो पानी पीये. हमें ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए. एक साथ अधिक पानी पीने से अच्छा  है बार-बार थोड़ा-थोड़ा पानी पीये.

कुछ खाए | Dizziness in Hindi

भूख की वजह से चक्कर आने लगते है. अगर आप भूखे है तो तुरंत कुछ खाए और पीये. घर से बहार होने पर हम केले या चॉकलेट खालें. घर पर खाने के साथ दही जरुर लें. जब भी Dizziness की समस्या हो कुछ न कुछ खाते रहें.

अदरक का उपयोग | Dizziness Meaning in Hindi

अदरक औषधियों गुणों से भरपूर है. चक्कर आने पर अदरक का सेवन बहुत ही कारगर है. इससे खून का संचरण पुरे शरीर में बेहतर हो जाता है.

  • अदरक के टुकड़ो को चबाने से Dizziness in Hindi में आराम मिलता है.
  • अदरक युक्त चाय का सेवन करें.

नींबू का उपयोग | Dizziness Meaning in Hindi

आप सब जानते है नींबू में विटामिन ‘C’ अधिक होता है. इससे रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. नींबू से शरीर हाइड्रेट जल्दी होता है. नींबू पानी का हमेशा सेवन करने हम पुरे दिन तरोताजा रहते है.

चक्कर आने पर नींबू पानी पीये, जिसमे नमक और चीनी मिलाएं. इसके अलावा आप काली मिर्च पाउडर की एक चुटकी भी डाल सकते है.

शहद का उपयोग | Dizziness in Hindi

शुगर लेवल कम होना भी चक्कर आने का प्रमुख कारण है. आप सब जानते ही है कि शहद में प्राक्रतिक शुगर होती है जिससे हमारे शरीर का उर्जा स्तर बढ़ता है. शहद शुगर लेवल को कम नहीं होने देता है.

  • चक्कर आने पर एक चम्मच शहद और एक नींबू का रस थोड़े गर्म पानी में मिलाकर पीये.
  • इसके अलावा हम शहद की एक चम्मच में दालचीनी पाउडर मिलाकर भी खा सकते है. अगर आपको चक्कर आटे रहते है तो इसे रोजाना भी ले सकते है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.